♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के मुक्केबाजों ने बढ़ाया भारत का गौरव: दुबई में हुई एशियन यूथ बॉ1िसंग चैंपियनशिप-2०21 में जीते 2 गोल्ड मेडल

vमोहाली 2 सितंबर (विजय)। चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, घड़ूआं के खिलाडिय़ों ने राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है और एक बार फि र इस तथ्य का प्रमाण देते हुए यूनिवर्सिटी की खुशी और विशाल वालिया ने दुबई में आयोजित एशियन यूथ बॉ1िसंग चैंपियनशिप 2०21 (महिला/पुरुष) में 2 गोल्ड मेडल जीत कर भारत को गौरवान्वित किया है। हाल ही में 17 से 31 अगस्त, 2०21 को स6पन्न हुई एशियन यूथ बॉ1िसंग चैंपियनशिप में चंडीगढ़ यूूनिवर्सिटी में बीए की छात्रा खुशी ने 75 किलोग्राम भार वर्ग में बॉ1िसंग में गोल्ड मेडल जीतकर लड़कियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन गई है, वहीं यूनिवर्सिटी के विशाल ने 8०-86 किग्रा. भारवर्ग में गोल्ड मेडल देश के नाम किया है।
चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में बीए स्पोट्र्स के तहत पढ़ रही पटियाला की खुशी का 3० अगस्त को 75 किग्रा. भारवर्ग के तहत कजाखस्तान की डाना दीडे के साथ फाइनल मुकाबला हुआ, जिसमें खुशी ने कजाखस्तान को 3-० से शिकस्त देते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम किया। खुशी के पिता जगसीर सिंह और मां कुलदीप कौर को बेटी होने पर बेहद गर्व है तथा उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी द्वारा खेलों में खुशी के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए एकेडमिक फीस, होस्टल और डाइट पर दी जा रही 1०० प्रतिशत स्कॉलरशिप एक युवाओं को खेल करियर में बढ़ावा देता है। इसके अलावा खुशी ने कहा कि मैरी कॉम उनकी आइडल हैं, जिन्होंने अपने कठिन परिश्रम से भारत का परचम पूरे विश्व में लहराया है तथा उनका जीवन मेरे लिए प्रेरणास्त्रोत हैं, जिसका अनुसरण करके खुशी वैश्विक स्तर पर भारत का नाम रोशन करना चाहती हैं। उल्लेखनीय है कि इससे पहले सर्बिया में 2०18 बॉ1िसंग चैंपियनशिप और स्पेन के मर्सिया में 2०19 नेशनल जूनियर बॉ1िसंग कप के दौरान खुशी 65-7० किग्रा. भारवर्ग में गोल्ड मेडल जीत चुकी है।

वहीं यूनिवर्सिटी के विशाल वालिया ने 25 अगस्त को कजाखस्तान को 5-० से शिकस्त देते हुए फाइनल में जगह बनाई। 3० अगस्त को हुए फाइनल मुकाबले में शानदार प्रदर्शन के साथ यूनिवर्सिटी के विशाल वालिया ने किग्रिस्तान को 5-० से मात दते हुए गोल्ड मेडल हासिल कर शानदार जीत के साथ देश को गौरवान्वित किया। गौरतलब है कि इस चैंपियनशिप में 73 भारतीय मुक्केबाजों ने देश का प्रतिनिधित्व किया। गोल्ड मेडल को देश के नाम करते हुए यूनिवर्सिटी के विशाल वालिया ने कहा कि चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी ने उन्हें अपने खेल के लिए पूर्ण सर्मथन प्रदान किया है तथा उनका सपना भारत का ओलंपिक में प्रतिनिधित्व करना है। विशाल ने बताया कि यूनिवर्सिटी द्वारा उन्हें 8०  प्रतिशत स्पोट्र्स स्कॉलरशिप प्रदान की जा रही है, जिसमें एकेडमिक फीस के पर छूट के साथ-साथ डाइट, होस्टल आवास की सुविधा शामिल है, जबकि ए1सपट्र्स के मार्गदर्शन में ट्रेनिंग मुहैया करवाई जाती है।
इस मौके पर चैंपियनशिप में देश का प्रतिनिधित्व करने वाले सभी खिलाडय़िों को बधाई देते हुए चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के प्रो.चांसलर डॉ. आरएस बावा ने कहा कि यूथ चैंपियनशिप के दौरान एथलीटों ने 6 गोल्ड, 9 सिल्वर और 5 ब्रांज मेडल सहित कुल 2० मेडल जीत कर देश को गौरवान्वित किया है। अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुए उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी हमेशा प्रतिभाशाली खिलाडिय़ों के समग्र विकास के लिए प्रयासरत रही है। चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी ने प्रत्येक वर्ष करोड़ों का विशेष बजट निर्धारित किया है, जिसके तहत प्रतिभाशाली खिलाडय़िों को अंतरराष्ट्रीय स्तर के कोचों के मार्गदर्शन में एकेडमिक फीस पर छूट, मु3त आवास, आहार शुल्क और प्रशिक्षण पर 1०० प्रतिशत स्कॉलरशिप प्रदान की जा रही है।

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129